वास्तविक बने रहें और जो आपके साथ रहने में खुश हैं ,उन्हें प्यार करें :-

हर सुबह शीशे के आगे खड़े हो जाएँ और अपने आप को एक बड़ी मुस्कान दें।साथ ही साथ अपने आप से ये वादा करें कि आज आप एक अच्छा दिन गुजारेंगे और खुश रहेंगे,चाहे कुछ भी हो।

आप हर रोज असंख्य व्यक्तियों से मिलते हैं।कुछ आप के बहुत प्यारे होते हैं और कुछ नहीं।कुछ आप को चाहते हैं और कुछ नहीं।लेकिन जो आप को चाहते हैं वो ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि वो जानते हैं वो कौन  हैं और आप के साथ रहने में आनंद महसूस करते हैं।और जो आप के साथ रहने में आनंदित नहीं होते वो आप से शायद कभी प्यार न करें।

ऐसे व्यक्तियों के लिए आप को अपने अन्दर बदलाव लाने अर्थात अपनी मानसिकता,अपने मूल्यों,और अपने दृष्टिकोण को बदलने कि जरूरत नहीं है। क्योंकि अगर वे आपकी बदली छवि को प्यार करने लगते हैं तो इसका केवल यही मतलब है कि वो आप से वास्तविक प्यार नहीं करते।

पर अपनी बुरी आदतों और अपने बुरे व्यवहार को बदलने में कोई बुराई नहीं है।अपितु इससे हम एक अच्छे इंसान ही बनेंगे।यहाँ उन व्यक्तियों से अर्थ है जो आपके व्यक्तित्व को ही बदलना  चाहते हैं।

कभी भी अपना आत्मसम्मान न खोएं।आप जो हैं वो हैं और आप को आप जैसे हैं उस में प्रसन्न रहना चाहिए।आप किसी अपने के पीछे नहीं भाग सकते और न उन की खुशी के लिए पल-पल अपने को बदल सकते हैं।क्योंकि जो आप में अपने अनुसार हर समय बदलाव चाहता है ,वो आपसे आपके असंख्य प्रयासों के बाद भी खुश होगा इसकी संभावना कम ही है।

याद रखें आप हर किसी को प्रसन्न नहीं कर सकते।थोडा सा स्वार्थी बनने की कोशिश करें।यदि कोई तुम्हे दुखी और अभागा बनाने की कोशिश करे तो आप को ये पूरा अधिकार है कि आप ऐसे व्यक्ति को अपनी जिन्दगी से निकाल बाहर करें।

केवल उन व्यक्तियों को खुश करें जो आपकी परवाह करते हैं और आपसे प्रेम करते हैं उसी रूप में जैसा कि आप हैं।खुशियाँ ,क्षमा,देखभाल और प्यार बांटें।हर रात आप जब सोने के लिए जाएँ ,शीशे के सामने खड़े हो कर अपने आप को एक बड़ी मुस्कान दें कि आपने अपने दिन को खुशनुमा बनाया और अपने आप को खुश रखा।