ACT POSITIVE NOW

Archives for July, 2016 - Page 3

You are here: » » ( » Page 3)

आलोचना को एक अवसर में बदलें :

आलोचना को एक अवसर में बदलें :- यह कहना अतिश्योक्ति नहीं है कि कुछ व्यक्तियों के लिए आलोचना, रोज़मर्रा की ज़िंदगी का प्रमुख डर है।दुर्भाग्य से,हमेशा एक न एक व्यक्ति होता ही है जो आपके व्यवहार की आलोचना करेगा या आपके किये कार्यों को नकारात्मक दृष्टिकोण से देखेगा।किसी को...

परिपक्व होने का क्या अर्थ है ?

परिपक्व होने का क्या अर्थ है ? हम अक्सर न्यूज़ चैनलों पर देखते हैं कि एक बुद्धिमत्तापूर्ण बहस की बजाय लोग एक दूसरे पर चिल्ला रहे होते हैं ,कभी –कभी रोड रेज के भयानक वाकये होते हैं।साथ ही साथ सार्वजनिक रूप से शर्मसार कर देने वाले वाकये बड़ते ही...

प्रेरक वचन :-महात्मा हंसराज

प्रेरक वचन -महात्मा हंसराज:- जब क्रोध आये : बोलते बोलते यदि क्रोध आ जाए तो जिह्वा दांतों के नीचे दे लो ,और यदि लिखते –लिखते क्रोध आ जाए तो लेखनी को मेज पर रख दो।इसके पश्चात जब क्रोधावेश समाप्त हो जाए ,तब बोलो ,तब लिखो !क्रोध करना अच्छी बात...

प्यार बांटें :

प्यार बांटें:- किसी एक या अन्य के सामने खुद को खोल कर रख देना ये एक बुनियादी मानवीय प्रवृत्ति है।जिस हद तक हम लोगों के साथ अपने विचार और भावनाएं साझा करते हैं,उसके आधार पर मानवीय रिश्तों को अन्तरंग, अनौपचारिक और औपचारिक की श्रेणी में बाँट सकते हैं।पर जैसे...

असफलताओं से न डरें ,सपने देखते रहें ,आगे बढ़ते रहें, अभ्यास पूर्वक नयी बातें सीखतें रहे ,एक दिन आप जरूर सफल होंगे :

असफलताओं से न डरें ,सपने देखते रहें ,आगे बढ़ते रहें, अभ्यास पूर्वक नयी बातें सीखतें रहे ,एक दिन आप जरूर सफल होंगे :- कभी कभी ऐसा समय आता है जब हम अपने जीवन के अंधकारमय चरण में पहुँच जाते हैं और सभी कोशिशें व्यर्थ दिखाई देने लगती हैं,सपनों तक...