ACT POSITIVE NOW

Archives for August, 2016 - Page 2

You are here: » » ( » Page 2)

अपने जुनून(उत्साह,शौक़ ) में स्पंदन पैदा करें :

अपने जुनून(उत्साह,शौक़ ) में स्पंदन पैदा करें :- जिन्दगी को अच्छी तरह से जीने और केवल जीने में एक ही शब्द का अंतर है और वो है आपका जुनून।और केवल एक ये शब्द यदि आपके जीवन में सक्रिय हो जाए तो ये अस्तित्व में एक अतिरिक्त धार और सुखद...

जीवन में आने वाले बुरे सपनों के लिए तैयार रहे :

जीवन में आने वाले बुरे सपनों के लिए तैयार रहें :- किताबें ज्ञान प्राप्त करने का उत्तम साधन हैं जो हमें समझाती और शिक्षित करती हैं । हम गुरुओं और संतों के द्वारा दिए गए नैतिक उपदेशों और दर्शन से भी सीख सकते हैं और अपनी परेशानियों को सुलझाते...

केन्द्रित रहना चाहिए :

 केन्द्रित रहना चाहिए :- जब तक आप दृढ़ता से केंद्रित हैं ,तब तक कोई उथल-पुथल ,आपकी शांत और सफल जिन्दगी का अधिग्रहण नहीं कर सकती।जीवन में कभी न कभी हम सब ही उथल-पुथल का शिकार होते हैं ,जब एक ही समय पर सब कुछ गलत होता दिखयी देता है।...

दुबारा बच्चा बनने से न डरें ,जीवन को जी भर के जीयें ,अपने अन्दर के बच्चे को जीवित रखें और अपनी गलतियों से सीखें :

दुबारा बच्चा बनने से न डरें ,जीवन को जी भर के जीयें ,अपने अन्दर के बच्चे को जीवित रखें और अपनी गलतियों से सीखें :- अपने बचपन को याद करें : क्या आप को याद  है जब हम बच्चे हुआ करते थे तो ख़ुशी छोटी -छोटी बातों में आती...

कर्म :-अच्छे कर्म करें और उन्हें अपना दोस्त बनाएं

कर्म :-अच्छे कर्म करें और उन्हें अपना दोस्त बनाएं:-  शब्दों को अच्छे कर्मों में बदलो : समय नहीं ,बल्कि हमारे कर्म ही ,हमारी जिन्दगी को परिभाषित करते हैं।क्यूंकि कर्म ही हमारी उस रूप में सेवा करते हैं,जिसके हम अधिकारी हैं।अर्थात् जैसे हम कर्म करते हैं वैसा ही हमें फल...

परमात्मा प्राप्ति :

परमात्मा प्राप्ति :- कामना की पूर्ति कभी नहीं हो सकती : परमात्मा प्राप्ति की योग्यता ,सामर्थ्य तो सभी मनुष्यों में है ,परन्तु सांसारिक वस्तुओं को प्राप्त करने की योग्यता ,सामर्थ्य सभी मनुष्यों में नहीं है।जैसे कामना की पूर्ति करना और कामना का त्याग करना –ये दो बातें हैं।कामना की...

कार्यस्थल पर अपनी छवि सुधारने और सफल होने के उपाय :

कार्यस्थल पर अपनी छवि सुधारने और सफल होने के उपाय :- कामकाजी जीवन में मुश्किलें हर किसी के सामने आती हैं।इस वजह से कई बार जीवन नीरस लगने लगता है।जो काम आमतौर पर अच्छा लगता है,कभी-कभी उससे कोफ़्त भी होती है।लेकिन इन सब के बावजूद जो इन चुनौतियों का...
प्यार – जीवन की एकमात्र औषधि :

प्यार – जीवन की एकमात्र औषधि :

प्यार – जीवन की एकमात्र औषधि :- संसार में  न तो अच्छा है और न ही बुरा है।है तो सिर्फ प्यार।जो जीवन की एकमात्र औषधि है।जो सभी तरह के मरीजों का उपचार करती है। जाहिर है ,हमें न केवल अपने जीवन का निरीक्षण करना होगा। बल्कि हमारे आस पास क्या हो...

शक्ति का सही मिश्रण -जुनून,धैर्य और दृढ़ता:-

शक्ति का सही मिश्रण -जुनून,धैर्य और दृढ़ता:- हम हमेशा अपने माता-पिता से,हमारे अध्यापकों से ,अपने उपदेशकों से सुनते आये हैं कि जीवन मे कोई उद्देश्य होना चाहिए। उद्देश्य या लक्ष्य निर्धारित करना कोई मुश्किल काम नहीं है। इसको प्राप्त करना भी गौण कार्य है। सबसे महत्वपूर्ण ,जो लक्ष्य निर्धारित करने के...

विचारणीय :२

विचारणीय :२ यत्प्रज्ञानमुत चेतोधृतिश्च यज्ज्योतिरन्तरमृतं प्रजासु।यस्मान्न ऋते किन्चिन कर्म क्रियते तन्मे मन: शिवसंकल्पमस्तु।। यजुर्वेद ३४-३ जो नए-नए अनुभव कराता है ,पिछले जाने हुए का स्मरण कराता है ,संकट में धैर्य धारण कराता है ,जो समस्त प्रजाओं (इन्द्रियों) के अन्दर एक अमर ज्योति है ,जिसके बिना कोई कर्म नहीं किया जाता...