ACT POSITIVE NOW

Archives for February, 2018

You are here: » »
CONTEMPLATIVE-KNOWLEDGE

CONTEMPLATIVE-KNOWLEDGE

CONTEMPLATIVE-KNOWLEDGE Knowledge is like Kamdhenu cow–Chanakya VIZ  The way Kamadhenu cow fulfills all our wishes, in the same way, by means of knowledge one can attain whatever the person wants .A person, with the help of the strength of knowledge ,can easily face bigger problems and  can attain the...
मन की सोच: प्रेम या अपनत्व क्या है ?

मन की सोच: प्रेम या अपनत्व क्या है ?

मन की सोच: प्रेम या अपनत्व क्या है ? अपनों के लिए स्वभावत: उनके दोषों को छिपाने और गुणों को प्रकट करने की आदत होती है। कोई भी पिता अपने प्यारे पुत्र के दोषों को नहीं प्रकट करता है। वह तो उसकी प्रशंसा के पुल ही बाँधता रहता है।...