HOW TO LIVE LIFE:9

Be generous, maintain harmony, help all and change the gift of life into the rainbow for everyone: –

Whenever we get any gift whether small, we all get very pleased. There is no harm in it as this is human nature. Sometimes such gifts are given to us as praise, which inspire us to be more better and eventually we become motivated to do something for the good of the whole society.

But the greatest gift we have received is that of this life. Any other gift cannot match this gift. Our life is like a mine of gold because it gives us innumerable opportunities to live like this and provides solutions, so that we all can be blessed.

We should be soft and tolerant with the children, kind and compassionate with elders and weak, because in life we sometimes go through these stages too.

We should always be grateful and aware that we are fortunate enough to get such a beautiful life. Because no matter how rich we are, we can never buy the gift of life.

Therefore, while we are fortunate that we are living on this earth, we should not lose our life in vain. It becomes our duty to give ourselves an opportunity to live a meaningful and purposeful life and help others do the same. It can happen smoothly if we keep our heart compassionate, which keeps feeling of love and respect towards everyone.

It means that the gift of life that we have received, should be utilized, to transform sad and gloomy life of needy into the rainbow, by serving and helping them. If we help all, be kind and compassionate towards all and maintain harmony in the society, then no doubt, good things and events in our own life also come back in the form of gift. Because which seeds we sow, the same type of fruit we get.

HINDI TRANSLATION: हिंदी अनुवाद

जीवन कैसे जीयें:९

उदार रहें,सामंजस्य बनाए रखें,सबकी मदद करें और जीवन के उपहार को सबके लिए इन्द्रधनुष में बदलें:-

जब भी हमें कोई छोटे से छोटा उपहार मिलता है,तब हम सभी अत्यधिक प्रसन्न हो जाते हैं।इसमें कोई बुराई भी नहीं है क्योंकि यही मानव स्वभाव है।कभी-कभी ऐसे उपहार हमें प्रशंसा के रूप में मिलते हैं,जो हमें ओर बेहतर बनने के लिए प्रेरित करते हैं और अंतत: हम सम्पूर्ण समाज की भलाई के लिए कुछ करने के लिए प्रेरित हो जाते हैं।

पर हमें सबसे बड़ा उपहार जो मिला है,वो है इस जीवन का।कोई भी अन्य उपहार,इस उपहार की बराबरी नहीं कर सकता।हमारा जीवन,सोने की एक खान के समान है क्योंकि ये हमें खुद को इस तरह जीने के असंख्य अवसर और उपाय देता है,जिससे हम सभी का भला हो सके।

हमें बच्चों के साथ कोमल,सम्वेदनशील,बड़ों के साथ दयालु और करुणामय,कमजोरों के साथ सहिष्णु होना चाहिए,क्योंकि जीवन में कभी न कभी हम भी इन अवस्थाओं से गुजरते हैं।

हमें इस बात के लिए भी हमेशा आभारी और सचेत रहना चाहिए कि हम सौभाग्यशाली हैं जो इतनी खूबसूरत जिन्दगी हमें मिली।क्योंकि चाहे हम कितने भी धनवान क्यों न हों,हम जीवन के उपहार को कभी खरीद नहीं सकते।

इसलिए जबकि हम सौभाग्यशाली हैं कि हम इस धरती पर जी रहे हैं,हमें अपना जीवन निरर्थक नहीं गँवाना चाहिए।ये हमारा कर्तव्य बन जाता है कि हम स्वयं को एक उद्देश्यपूर्ण व सार्थक जीवन जीने का अवसर दें और औरों को भी ऐसा करने में मदद करें।ऐसा सुचारू रूप से हो सकता है यदि हम अपने हृदय को करुणामय रखें,जो सभी के प्रति प्रेम और आदर का भाव रखता हो।

कहने का तात्पर्य है कि जीवन का उपहार जो हमें मिला है,उसे जरूरतमंदों की सेवा और मदद के द्वारा,उनके उदास और मलीन जीवन को इन्द्रधनुष में बदलने के लिए करना चाहिए।यदि हम सबकी मदद करें,सभी के प्रति दयालु और करुणामय रहें और समाज में सामंजस्य बनाए रहें तो कोई शक नहीं हमारे स्वयं के जीवन में भी अच्छी बातें और घटनाएँ वापसी उपहार के रूप में आयें।क्योंकि जैसा बीज हम बोते हैं वैसा ही फल हमें प्राप्त होता है।