PONDERABLE:40

Do not be embarrassed by your failures, learn from them and try again. -Richard Branson

VIZ Success and failure always comes in life. The way in which we descend after climbing on the mountain and then again climb, in the same way, we pass through phases of success and failure. But if we fail, there is no need to be sad or embarrassed. The reason for failure should be to find and then the remedy to remove that reason. So that, when we try again, do not fail and achieve success. If we be embarrassed and sit due to our failures then how can we go ahead and succeed.

It does not matter how much slowly you go, until you stop. -Confucius

VIZ person always keeps on trying to achieve his goal and to become something in life. someone attempts to achieve his goal in a big speed, another one slowly moves forward with firm steps. Many obstacles and troubles also occurs in the way. Many people feel nervous due to these obstacles and change their way or stuck at one place in life. They do not make any effort to improve the quality of life. That person, who gradually goes ahead without any hesitation, does not only achieve his goal but also improves the standard of living. That is why, keep walking is important whether you move forward in life at whatever speed.

A creative person is inspired by the desire to achieve the goal, not the desire to defeat others. – N Rand

VIZ The person who does not want others to move forward in life and wants them to be behind them, i.e., wants to defeat them, he will spoil the work done by other people to do this. In this way, he will not be able to create something new but spoil the made work and will wander, from his goal. To say this means, we should only keep an eye on our goals and try to achieve it, without being distracted from letting others reach their goal.

There are more worst crimes than burning books, one of which is not to read those books. -Ray Bradbury

VIZ Books are a storehouse of knowledge. The person learns new things from them and executes them and goes ahead in life. When a person rip apart or burns those books, then it is a worst crime. Such can be done only by an ignorant man. But such wise who know the importance of books but keep those books unread, such people do even worse than destroying books because although they know the importance of books even then they cannot take any benefit from those books. Since they themselves do not read those books, they cannot inspire others to read those books too. In this way, the books remain unread and the knowledge inside them becomes in vain. Not taking advantage of knowledge is the worst offense even worse than the worst.

Education is a passport for the future because tomorrow is for them, who prepare for it today. Malcom X

VIZ Education has contributed a lot to improve the life of a person and to make his future good. If the person is illiterate then he will not be able to do anything in life and will always be dependent on others. Education will enable us to understand various situations of life and deal with them. Therefore, the person should emphasize education from today so that not only afterwards but also the future of his future generation will be improved.

विचारणीय:४०

अपनी विफलताओं से शर्मिंदा न हों,उनसे सीखें और फिर से प्रयास करें।रिचर्ड ब्रान्सन

अर्थात् जीवन में सफलता और असफलता तो आती जाती रहती हैं।जिस प्रकार पहाड़ पर चड़ने के बाद उतरना और फिर चड़ना पड़ता है,उसी प्रकार सफलता और असफलता के दौर से गुजरना पड़ता है।पर यदि हम असफल होते हैं तो उस से दुखी होने या उस पर शर्मिंदा होने कि जरूरत नहीं है।असफल होने का कारण खोजना चाहिए और फिर उस कारण को दूर करने का उपाय।ताकि जब हम पुनः प्रयास करें तो असफल न हों और सफलता हमारे कदम चूमे।यदि हम विफलताओं से शर्मिंदा हो कर बैठ जायेंगे तो आगे कैसे बढ़ेंगे।

यह मायने नहीं रखता कि आप कितना धीरे-धीरे जाते हैं जब तक आप नहीं रुकते।-कन्फ़्यूशियस

अर्थात् व्यक्ति अपने लक्ष्य कि प्राप्ति के लिए और जीवन में कुछ बनने के लिए प्रयत्न करता रहता है।कोई बड़ी तेजी से अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रयास करता है तो कोई धीरे-धीरे सधे क़दमों से आगे बढ़ता है।राह में कई रुकावटें और मुसीबतें भी आती हैं।कई व्यक्ति इनसे घबरा कर अपनी राह बदल लेते हैं या जीवन में एक ही जगह पर रुक जाते हैं।वे जीवन स्तर सुधारने का कोई प्रयास ही नहीं करते।वहीँ जो व्यक्ति धीरे-धीरे ही सही पर बिना रुके आगे बढ़ता रहता है वो न केवल अपना लक्ष्य प्राप्त कर पाता है बल्कि जीवन स्तर को भी सुधार पाता है।इसलिए केवल चलते रहने का ही महत्व है चाहे आप किस भी गति से जीवन में आगे बढ़ें।

एक रचनात्मक आदमी लक्ष्य को हासिल करने की इच्छा से प्रेरित है ना की दूसरों को हराने की इच्छा से।- एन रैंड

अर्थात् जो व्यक्ति दूसरों को आगे बढते नहीं देखना चाहता और उनको अपने से पीछे रखना चाहता है अर्थात् हराना चाहता है वो ऐसा करने के लिए दूसरे व्यक्तियों द्वारा किये हुए कार्यों को बिगाड़ेगा।इस प्रकार नया तो वो कुछ सृजन कर ही नहीं पायेगा बल्कि बना बनाया भी बिगाड़ देगा और अपने लक्ष्य से भटक जाएगा।कहने का तात्पर्य ये है कि हमें केवल अपने लक्ष्य पर ही नजर रखनी चाहिए और उसे हासिल करने का यत्न करना चाहिए बिना अन्यों को उनके लक्ष्य तक पहुँचने देने से भटकाए हुए।  

पुस्तकें जलाने से भी निकृष्टतम अपराध हैं जिनमे से एक है उन पुस्तकों को न पढना।-रे ब्रैडबरी

अर्थात् पुस्तकें ज्ञान का भण्डार होती हैं।व्यक्ति उनसे नयी-नयी बातें सीखता है और उन पर अमल कर जीवन में आगे बढ़ता है।जब कोई व्यक्ति उन पुस्तकों को फाड़ कर या जला कर नष्ट करता है तो ये एक निकृष्टतम अपराध है।ऐसा कोई अज्ञानी मनुष्य ही कर सकता है।पर ऐसे ज्ञानी जो पुस्तकों का महत्व तो जानते हैं पर उन पुस्तकों को बिना पढ़े ही रखे रखते हैं,ऐसे व्यक्ति पुस्तकें नष्ट करने से भी निकृष्टतम काम करते हैं क्योंकि वे पुस्तकों का महत्व जानते हुए भी उस पुस्तकों से कोई लाभ नही ले पाते।और चूंकि वे खुद उन पुस्तकों को नहीं पढ़ते,वो अन्यों को भी उन पुस्तकों को पढने के लिए प्रेरित नहीं कर पाते।इस तरह पुस्तकें बिना पढ़े ही रह जाती हैं और उनके अन्दर का ज्ञान व्यर्थ हो जाता है।ज्ञान का फायदा न लेना निकृष्टतम से भी निकृष्टतम अपराध है।

शिक्षा भविष्य के लिए पासपोर्ट है क्योंकि कल उनका है जो आज इस के लिए तैयारी करते हैं।-मलकोम एक्स

अर्थात् व्यक्ति के जीवन को सुधारने और उसका भविष्य अच्छा बनाने में शिक्षा का बहुत ही योगदान है।यदि व्यक्ति अनपढ़ रहेगा तो जीवन में कुछ भी नहीं कर पायेगा और सदा दूसरों पर निर्भर रहेगा।शिक्षा हमें जीवन की विभिन्न परिस्थितियों को समझने और उनसे निबटने में सक्षम बनाती है।इसलिए व्यक्ति को आज से ही शिक्षा पर जोर देना चाहिए ताकि आगे चल कर न केवल उनका अपितु उनकी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य भी सुधर सके।