ACT POSITIVE NOW

Tag archives for HOW TO LIVE LIFE - Page 2

You are here: » ( » Page 2)
मन की सोच: प्रेम या अपनत्व क्या है ?

मन की सोच: प्रेम या अपनत्व क्या है ?

मन की सोच: प्रेम या अपनत्व क्या है ? अपनों के लिए स्वभावत: उनके दोषों को छिपाने और गुणों को प्रकट करने की आदत होती है। कोई भी पिता अपने प्यारे पुत्र के दोषों को नहीं प्रकट करता है। वह तो उसकी प्रशंसा के पुल ही बाँधता रहता है।...
CONTEMPLATIVE-Karma:

CONTEMPLATIVE-Karma:

CONTEMPLATIVE-Karma: The result of bad deeds can never be auspicious. For bad deeds pain and suffering will definitely have to suffer – Swami Vivekananda VIZ When a person does bad deeds, all people start to hate him. Even nobody helps such a person in need. By doing bad deeds,...